Saturday, May 18, 2024
No menu items!
Homeआपदाभूस्खलन की चपेट में उत्तराखंड! सोनप्रयाग व गौरीकुंड राजमार्ग बाधित

भूस्खलन की चपेट में उत्तराखंड! सोनप्रयाग व गौरीकुंड राजमार्ग बाधित

उत्तराखंड के सोनप्रयाग व गौरीकुंड के बीच मुनकटिया में हाईवे क्षतिग्रस्त होने पर भारी वाहनों की आवाजाही पर प्रशासन ने प्रतिबंध लगा दी है। इससे गौरीकुंड समेत केदारनाथ धाम में जरूरी आवश्यक सामान की पूर्ति बाधित हो जाएगी। स्थानीय लोगों ने जल्द से जल्द क्षतिग्रस्त सड़क को पूरा करने की मांग की है।

केदार घाटी में बीते दिनों हुई तेज़ बरसात से सोनप्रयाग व गौरीकुंड के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग जगह क्षतिग्रस्त हो गया है, राजमार्ग पर कई जगह पहाड़ी से मलबा आने तथा कुछ स्थानों पर भूधंसाव होने से राजमार्ग पर सफर करना खतरों भरा बना हुआ है। गत दिवस सोनप्रयाग गौरीकुंड के बीच पहाड़ी से मलबा आने एवं भूधंसाव हो जाने से मुनकटिया के समीप बना वैली ब्रिज की एप्रोच रोड का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। सुरक्षा की दृष्टि को देखते हुए पुलिया पर माल से भरे बड़े वाहनों के आवागमन में रोक लगा दी गई है। व्यापार मंडल अध्यक्ष गौरीकुंड रामचन्द्र गोस्वामी ने बताया कि सोनप्रयाग गौरीकुंड के बीच मुनकटिया के समीप वेली ब्रिज का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो जाने से बड़े वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई है, उन्होंने कहा कि राजमार्ग विभाग द्वितीय चरण की यात्रा शुरू होने वाली है। गौरीकुंड व केदारनाथ धाम में जरूरी सामान की आपूर्ति प्रभावित हो सकती है। उस से पूर्व पुल की स्थिति को सुधारा जाए, जिससे खाद्यान आपूर्ति एवं अन्य सामान की आपूर्ति बाधित न हो। उन्होंने राजमार्ग विभाग से अति शीघ्र सोनप्रयाग गौरीकुंड राजमार्ग की स्थिति सुधारने की मांग की है। वहीं पूर्व प्रधान गौरीकुंड मायाराम गोश्वामी ने बताया कि पूर्व में प्रशासन व एनएच को मुनकटिया के पास क्षतिग्रस्त हाईवे को ठीक करने की मांग की गई थी, लेकिन इस ओर ध्यान नहीं दिया और अब भारी वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया है, जिससे गौरीकुंड व केदारनाथ धाम में जरूरी सामान की आपूर्ति प्रभावित हो सकती है।

 

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -

ताजा खबरें