Wednesday, February 21, 2024
No menu items!
Homeउत्तराखंडवेब सीरीज काफल में दिखेगी उत्तराखंड की खूबसूरती! नैनीताल में शूटिंग शुरू

वेब सीरीज काफल में दिखेगी उत्तराखंड की खूबसूरती! नैनीताल में शूटिंग शुरू

वेब सीरीज काफल के जरिये लोग देवभूमि के प्राकृतिक सौंदर्य के साथ ही पहाड़ों के मुश्किल हालातों से भी रूबरू होंगे। शहर में करीब दो माह तक प्रस्तावित फिल्म की शूटिंग शुरू हो चुकी है। इसके लिए अभिनेता हेमंत पांडे, इश्तियाक खान समेत कई कलाकार नैनीताल पहुंच चुके है।

फिल्म को पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की बेटी आरुषि पोखरियाल प्रोड्यूस कर रही हैं। रविवार को मल्लीताल स्थित एक होटल में पत्रकार वार्ता कर आरुषि ने कहा कि डिज्नी हाटस्टार में प्रदर्शित होने वाली इस फिल्म को नैनीताल और रानीखेत में शूट किया जाएगा। इसमें देवेंदु, हेमंत पांडे, इश्तियाक खान, मुक्ति मोहन समेत अन्य कलाकार अभिनय कर रहे है। फिल्म की अगले वर्ष अप्रैल-मई तक रिलीज तिथि रखी गई है। इसके अलावा वह एक नाव से समुद्र की यात्रा करने वाली छह नेवल महिला अफसरों पर केंद्रित तरणी फिल्म को भी जल्द प्रोड्यूस करेंगी। काफल देवभूमि का दर्पण बनेगी। जल्द ही पहाड़ी बोली भाषा में भी फिल्में बनाएंगी। 30 से अधिक फिल्मों के साथ ही धारावाहिकों में अभिनय का जलवा बिखेर चुके इश्तियाक खान ने कहा कि बॉलीवुड में जगह बना पाना आसान नहीं है। एनएसडी से पढ़ाई पूरी कर अभिनय क्षेत्र के शुरुआती दौर में उन्हें यह पता लगा। छोटे कद के कारण आसानी से काम नहीं मिला, मगर अभिनय के बल पर ही अपनी जगह बनाई। दूसरी बार नैनीताल आकर वह बेहद खुश नजर आए। कहा कि एनएसडी में पढ़ाई के दौरान दस दिनों के लिए उत्तराखंड की खूबसूरती को निहारने का अवसर मिला था। अब यहां स्वर्ग के माहौल में शूटिंग का खूब आनंद उठा रहे हैं। वेब सीरीज काफल की शूटिंग के लिए नैनीताल पहुंचे सिने कलाकार हेमंत पांडे ने प्रेसवार्ता में कहा कि पहाड़ की साफ आबोहवा, नीला आसमान और जिधर देखो प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज पहाड़ के युवाओं में अभिनय और लेखन को लेकर भी प्रतिभा की कमी नहीं। सरकार की ओर से फिल्म निर्माण में सब्सिडी मिलने के बाद बड़ी फिल्मी हस्तियां शूटिंग के लिए उत्तराखंड का रुख कर रही हैं। ऐसे में बॉलीवुड में आने वाला समय उत्तराखंड का है। हेमंत पांडे ने कहा कि सरकार की ओर से कुमाऊंनी व गढ़वाली बोली में फिल्म निर्माण पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी दी जा रही है, जो नए युवाओं को फिल्म निर्माण की ओर प्रेरित करती है। ओटीटी प्लेटफार्म पर प्रसारित हो रही फूहड़ता को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रसारित किए जा रहे कंटेंट पर लगाम लगाने की भी आवश्यकता है। फिल्में ऐसी बने, जिसे परिवार के साथ देख सके। बताया कि काफल के साथ ही एमेजन में जल्द उनकी फिल्म “पढ़ाई की लड़ाई” प्रसारित होने जा रही है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -

ताजा खबरें