Tuesday, July 16, 2024
No menu items!
Homeअपराधनैनीताल : बाल अपराधों, महिला संरक्षण,साइबर फ्रॉड के प्रति जागरूकता के लिए...

नैनीताल : बाल अपराधों, महिला संरक्षण,साइबर फ्रॉड के प्रति जागरूकता के लिए सीओ की अध्यक्षता में बिशप- शा स्कूल में जाकर किया गया वृहद जन-जागरूकता सेमिनार

नैनीताल ::- स्कूली बच्चों में बाल अधिकारों के संरक्षण, साइबर, ट्रैफिक, महिला अपराधो एवं अन्य कानूनी अधिकारों के संबंध में जन-जागरूकता हेतु एसएसपी नैनीताल द्वारा अधीनस्थ पुलिस अधिकारी गणों को स्कूल, कॉलेज एवम शिक्षण संस्थानों मैं जाकर जागरूक करने हेतु निर्देशित किया गया है।
इस दौरान विभा दीक्षित, क्षेत्राधिकारी नगर नैनीताल एवम रोहताश सिंह सागर थानाध्यक्ष तल्लीताल द्वारा थाना तल्लीताल क्षेत्र अंतर्गत विशप शा इंटर कॉलेज में जाकर अध्ययनरत स्कूली बच्चों को बाल अपराधो से संरक्षण, महिला अपराधों, साइबर क्राइम बढ़ते नशे की प्रवृत्ति की रोकथाम एवं यातायात नियमों के संबंध में जागरूक किया गया।

– अपने वक्तव्य में क्षेत्राधिकारी नगर नैनीताल द्वारा अध्ययनरत स्कूली छात्र-छात्राओं को सर्वप्रथम बाल संरक्षण अधिनियम एवं बाल अपराधों के संबंध में जागरूक करते हुए बताया गया कि यदि कोई परिचित या अपरिचित व्यक्ति उनके साथ दुर्व्यवहार, अनैतिक कार्य इत्यादि करने की कोशिश करते हैं तो वह इसकी सूचना सर्वप्रथम अपने अभिभावकों एवं अपने गुरुजनों के माध्यम से साझा अवश्य करें जिससे संबंधित के विरुद्ध कार्यवाही की जा सके। उनके द्वारा बताया गया कि बच्चों के प्रति होने वाले दुर्व्यवहार एवं चाइल्ड मिसिंग प्रकरणों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 जारी किया गया है।
इसके अतिरिक्त थानाध्यक्ष तल्लीताल श्री रोहताश सिंह सागर द्वारा अध्ययनरत स्कूली बच्चों को वर्तमान समय में चल रहे अपराध, नशा क्या है?
नशे की लत कैसे पड़ती है?
नशे के दुष्परिणाम क्या-क्या हो सकते हैं?
और नशे को रोकने के उपाय के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई।


अपने वक्तव्य में थानाध्यक्ष तल्लीताल द्वारा द्वारा बताया गया कि नशा एक ऐसी सामाजिक बुराई है जो धीरे-धीरे हमारे समाज के बच्चों युवा पीढ़ी को दीमक की तरह खोखला करती जा रही है। नशा, ना केवल नशा करने वाले व्यक्ति को मानसिक, शारीरिक एवं आर्थिक रूप से कमजोर कर देता है बल्कि उसका परिवार एवं आसपास का समाज जी से अछूता नहीं रहता।नशा करने वाले व्यक्ति को सभी लोग हेय की दृष्टि से देखते हैं। अतः हमें किसी भी प्रकार के नशीले मादक पदार्थों बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू, शराब, चरस, गांजा, अफीम, स्मैक,नशीले इंजेक्शन एवं अन्य किसी प्रकार की नशीले पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए साथ ही जो व्यक्ति नशे का अवैध कारोबार कर रहे हैं उनकी शिकायत नैनीताल पुलिस द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 7519051905 या 9719291929 पर गोपनीय रूप से दे सकते हैं।

इसके अतिरिक्त स्कूली बच्चों को साइबर अपराधो के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई तथा बताया गया कि यदि किसी व्यक्ति के साथ साइबर फ्रॉड से आर्थिक नुकसान हो जाता है तो वह सर्वप्रथम राष्ट्रीय साइबर हेल्पलाइन नंबर 1930 डायल कर इसकी प्राथमिक सूचना दें। उसके पश्चात राष्ट्रीय साइबर वेबसाइट के माध्यम से भी शिकायत कर सकते हैं। साथ ही नैनीताल पुलिस द्वारा जारी साइबर हेल्पलाइन नंबर 81712 00003 के माध्यम से भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

– जन जागरूकता कार्यक्रम के दौरान स्कूली बच्चों को यातायात नियमों एवं यातायात प्रतीक चिन्हों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। अध्ययनरत स्कूली छात्राओं को महिलाओं से संबंधित होने वाले अपराधों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई तथा अवगत कराया गया थी उपरोक्त किसी भी प्रकार की ऑनलाइन सहायता/सेवा हेतु उत्तराखंड पुलिस द्वारा उत्तराखंड पुलिस एप लॉन्च किया गया है। जिसके माध्यम से विभिन्न ऑनलाइन सेवाओं साइबर फ्रॉड ऑनलाइन एफ आई आर ट्रेफिक वायलेशन एवं महिलाओं के साथ होने वाली छेड़खानी दुर्व्यवहार जैसी घटनाओं की त्वरित शिकायत हेतु गौरा शक्ति ऐप के माध्यम से शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -

ताजा खबरें