Saturday, May 18, 2024
No menu items!
HomeUncategorizedउत्तराखंड के तीन तस्कर इटावा में गिरफ्तार! लग्जरी कार से करते थे...

उत्तराखंड के तीन तस्कर इटावा में गिरफ्तार! लग्जरी कार से करते थे कछुए की तस्करी

उत्तर प्रदेश के इटावा से उत्तराखंड में कछुओं की तस्करी का प्रयास करते हुए तीन तस्करों को गिरफ्तार किया गया है। इन्हें इटावा-कानपुर हाईवे पर अनंतराम टोल प्लाजा के पास से गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के पास से वन विभाग और स्पेशल टास्क फोर्स की संयुक्त टीम ने 13 जीवित कछुओं को बरामद किया।

इटावा जिले में एसटीएफ व वन विभाग की टीम ने अनंतराम टोल के पास तीन तस्करों को गिरफ्तार किया है। इस दौरान लग्जरी कार से करीब 50 से 70 किलो के 13 कछुए औरैया से उत्तराखंड के रुद्रपुर ले जाए जा रहे थे। पकड़े गए तस्करों पर वन्य जीव अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। जानकारी के अनुसार कानपुर एसटीएफ व वन विभाग को नेशनल हाईवे दो पर एक लग्जरी कार में कुछए ले जाने की सूचना मिली। अनंतराम टोल के पास टीम ने कार को रुकने का इशारा किया तो चालक ने रफ्तार बढ़ा दी। टीम ने पीछा कर कार को रुकवा लिया और उसमें सवार तीन लोगों को पकड़ लिया। तलाशी में कार में 13 जिंदा कछुए बरामद हुए। पकड़े गए तस्करों ने अपने नाम राजेश चौहान, शुभम साना और उत्तम दास निवासी पानी धाम शिमला बहादुर और ट्रांजिट कैम्प रुद्रपुर जिला ऊधम सिंह नगर उत्तराखंड बताया है। डीएफओ ने बताया उत्तराखंड के जनपद ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर कुछ लोग लम्बे समय कछुए की तस्करी कर ले जा रहे थे। इसमें और कितने लोग शामिल हैं जांच की जा रही है। बरामद हुए 11 कछुए चित्रा इंडिका, गेंगेटिक सॉफ्ट शेल टर्टल भी कहते हैं। दो कछुए निलसोनिया गेंगेटिका प्रजाति के हैं। वन जीव विशेषज्ञ संजीव चौहान ने बताया कि इन कछुओं का इस्तेमाल यह लोग सूप बनाने व शक्ति वर्धक दवाओं के लिए किया जाता है। अंतररााष्ट्रीय बाजार में इनकी कीमत लगभग पांच सौ रुपये किलो है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -

ताजा खबरें