Tuesday, July 16, 2024
No menu items!
HomeUncategorizedकुमाऊं के हल्द्वानी शहर का मास्टर प्लान से होगा कायाकल्प! कुमाऊं कमिश्नर...

कुमाऊं के हल्द्वानी शहर का मास्टर प्लान से होगा कायाकल्प! कुमाऊं कमिश्नर ने अधिकारियों को दिए निर्देश

उत्तराखंड कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया साथ ही शहर को योजनाबद्ध तरीके से विकसित करने के लिए मास्टर प्लान को लेकर जानकारी ली। कुमाऊं कमिश्नर ने शहर के आसपास लगे क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाओं से जोड़ने के लिए विकास कार्यों में तेजी लाने के भी निर्देश दिए।

हल्द्वानी शहर को समुचित ढंग से बसाने और विकास कार्यों को गति देने के लिए प्रशासन तैयारियों में जुट गया है। जिससे आने वाले समय में लोगों को परेशानियों का सामना ना करना पड़े। शहर को योजनाबद्ध तरीके से विकसित किए जाने को लेकर कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। साथ ही विकास कार्यों में तेजी लाने को कहा.कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने सर्किट हाउस में अमृत उपयोजना के तहत प्रस्तावित हल्द्वानी-काठगोदाम 151 वर्ग किलोमीटर में प्रस्तावित योजना की समीक्षा बैठक की। इस दौरान कुमाऊं कमिश्नर ने कहा कि वर्ष 2041 को ध्यान में रखते हुए शहर के सुनियोजित विकास के लिए योजना तैयार की जा रही है। कहा कि प्रस्तावित अमृत शहर हल्द्वानी को योजनाबद्ध तरीके से विकसित किया जाए, इसको लेकर राज्य सरकार एवं प्रशासन बेहद गंभीर है। साथ ही मास्टर प्लान को लेकर संबंधित विभागों के साथ बैठक की। इस दौरान कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने बताया कि साल 2041 को ध्यान में रखते हुए शहर के सुनियोजित विकास के लिए योजना तैयार की जा रही है। महानगर योजना में गौलापार, बरेली रोड, रामपुर रोड का क्षेत्र शामिल है। जिसमें योजनाबद्ध तरीके से सड़कों का निर्माण, हॉस्पिटल,परिवहन सुविधाएं के साथ ही अन्य जन सुविधाओं को किस तरीके से इसमें समायोजित किया जाए, इसको लेकर विस्तार से चर्चा की गई है। उन्होंने बताया इस योजना में 7 वार्ड हैं, जो निगम के अंतर्गत आते हैं.साथ ही हल्द्वानी और लालकुआं क्षेत्र के 300 के करीब गांव हैं, जो कि इस योजना में शामिल हैं. जिनको सुनियोजित तरीके से विकसित करना प्राथमिकता है। कहा कि इस योजना से कुमाऊं के मुख्य द्वार व व्यवसायिक केंद्र हल्द्वानी के ट्रैफिक मैनेजमेंट हेतु इनर व आउटर रिंग रोड प्रस्तावित की जा रही है। जिसका लोनिवि द्वारा स्थलीय निरीक्षण कर सत्यापन किया जाएगा। इसके साथ ही पर्यावरण दृष्टिकोण से हरित क्षेत्र का भी विकास किया जाएगा जिससे यहां के निवासियों को स्वच्छ वातावरण मिल सके।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -

ताजा खबरें